Physics Mechanics :  भौतिक विज्ञान यांत्रिकी

Updated: Sep 6

यांत्रिकी भौतिक विज्ञान की वह शाखा है जिसमें पिण्डों पर बल लगाने या विस्थापित करने पर उनके व्यवहार का अध्ययन करती है।

मात्रक (unit) मात्रक दो प्रकार के होते हैं- मूल मात्रक (fundamental unit) और व्युतपन्न मात्रक (derived unit). S.I. पद्धति में मूल मात्रक की संख्या 7 है, जिसे नीचे की सारणी में दिया गया है:

(1) वे सभी मात्रक जो मूल मात्रकों की सहायता से व्यक्त किये जाते है, व्युतपन्न मात्रक कहलाते है।

(2) बहुत लंबी दूरियों को मापने के लिए प्रकाश-वर्ष प्रयोग किया जाता है अथार्त् प्रकाश-वर्ष दूरी का मात्रक है। 1 प्रकाश वर्ष = 9.46 x 10^15 मीटर (3) दूरी मापने की सबसे बड़ी इकाई पारसेक है। 1 पारसेक = 3.26 प्रकाश वर्ष = 3.08 x 10^16 मीटर (4) बल की C.G.S. पद्धति में मात्रक डाइन है और S.I. पद्धति में मात्रक न्यूटन है। 1 न्यूटन = 105 डाइन (5) कार्य की C.G.S. पद्धति में मात्रक अर्ग है एवं S.I। पद्धति में मात्रक जूल है। 1 जूल =107 अर्ग

मात्रक

किसी भौतिक राशि को व्यक्त करने के लिए उसी प्रकार की राशि के मात्रक की आवश्यकता होती है। प्रत्येक राशि की माप के लिए उसी राशि को कोई मानक मान चुन लिया जाता है। इस मानक को मात्रक कहते हैं।


IMPORTANT MCQS FOR EXAMS...CLICK HERE